Udaan News24

Latest Online Breaking News

डिप्टी कमिश्नर ने रैपिड रिस्पांस टीमों की संख्या बढ़ाने के दिए आदेश

 25.5.2021 । हैप्पी जिंदल । उड़ान न्यूज़24
*फतेह किट की कोई कमी नहीं, हर पॉजिटिव मरीज के स्वास्थ्य की लगातार निगरानी
* सैंपलिंग दर को और बढ़ाने का निर्देश, लेवल-2 के तहत अस्पतालों में 153 बेड का प्रावधान

मानसा: डिप्टी कमिश्नर श्री महिंदरपाल ने कोरोना पॉजिटिव रोगियों के स्वास्थ्य की नियमित निगरानी सुनिश्चित करने के लिए जिले में रैपिड रिस्पांस टीमों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. जिला प्रशासनिक परिसर में आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि कंटेनमेंट और माइक्रो कंटेनमेंट जोन में तैनात रैपिड रिस्पांस टीमें सतर्क रहेंगी और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सख्ती से काम कर रहे अन्य अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित करेंगी. उन्होंने कहा कि भले ही लोग इस बीमारी से निजात पाने के लिए पहले से ज्यादा सहयोगी हो गए हैं लेकिन अब भी बिलकुल भी ढिलाई बरतने का समय नहीं है.
उपायुक्त ने कहा कि पहले सिविल अस्पताल के कोविड आइसोलेशन वार्ड में केवल 40 बेड थे जिसे बढ़ाकर 80 कर दिया गया और साथ ही विभिन्न निजी अस्पतालों में कोविड पॉजिटिव मरीजों के लिए एल-2 बेड सुनिश्चित करने के साथ ही जिला मनसा में अब तक 153 बेड उपलब्ध कराए गए हैं और इन सभी बेड पर ऑक्सीजन उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि प्रशासन कोविड से निपटने और नियंत्रित करने के लिए हर संभव इंतजाम कर रहा है. डिप्टी कमिश्नर ने सभी सब डिवीज़न में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के घरों में एकांतवास करने  और फतेह किट के वितरण की प्रगति की भी समीक्षा की. इस बीच सीपीटीओ  श्रीमती सरबजीत कौर ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों को कोरोना फतेह किट उपलब्ध कराने के लिए टीमों को तैनात किया गया है और अब फ़तेह किट की कोई कमी नहीं है और यह किट सब डिविजनल मजिस्ट्रेट के स्तर पर हर पॉजिटिव मरीज तक पहुंचाई जा रही है.
डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि हालांकि रोजाना करीब चार हजार सैंपल भरे जा रहे हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में अभी भी सैंपलिंग की संख्या बढ़ाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग भी कोविड की रोकथाम का एक महत्वपूर्ण साधन है, इसलिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि नागरिकों को स्वास्थ्य सलाह का पालन करने के लिए निरंतर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और प्रत्येक नागरिक को इसे अपना नैतिक कर्तव्य भी समझना चाहिए क्योंकि लापरवाही मानव जीवन को खतरे में डाल सकती है और इसलिए स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन समय की आवश्यकता है।
बैठक के दौरान एडीसी सुखप्रीत सिंह सिद्धू, एसडीएम शिखा भगत, एसडीएम सरदुलगढ़ सरबजीत कौर, सहायक कमिश्नर  बलजीत कौर, सिविल सर्जन डॉ. सुखविंदर सिंह, जिला स्वास्थ्य अधिकारी रंजीत सिंह राय सहित सीनियर चिकित्सा अधिकारी भी मौजूद थे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

error: Content is protected !!